प्रकाश का परावर्तन (Reflection of Light in Hindi)

इस Article में प्रकाश का परावर्तन (Reflection of Light in Hindi) के बारे में पढ़ेंगे । 

                                      प्रकाश का परावर्तन (Reflection of Light in Hindi)

प्रकाश का परावर्तन (Reflection of Light in Hindi)

जब प्रकाश की किरण किसी माध्यम में चलकर एक परिसीमा किसी चमकदार तल या कांच से टकराकर वापस उसी माध्यम में आ जाती है। इसी घटना को प्रकाश का परावर्तन कहते है।

Note-   ऊपर आपने अभी जो पढ़ा है।  उससे आपकी समझ में आ गया होगा।  प्रकाश का परावर्तन किसे कहते है।  फिर भी हम आपको यहाँ कुछ समझने की कोशिश करते है।  जैसे - जब हम किसी टोर्च से निकलने वाली Light (प्रकाश) को कांच पे लगते है / Focus करते है।  तो आप देखेंगे की उसकी Light (प्रकाश ) आपको कही दूसरी जगह दिखेंगे बस इसी को प्रकाश का परावर्तन कहते है।  

प्रकाश के परावर्तन की परिभाषा ( Reflection of Definition of Light in Hindi ) 

जब किसी प्रकाश की किरण एक माध्यम में चलकर किसी चमकदार तल या पृष्ठ पर टकराती होती है।  तब वह चमकदार तल या पृष्ठ पर टकराकर पुनः उसी माध्यम से लौट जाती है।  इसी घटना को प्रकाश का परावर्तन (Reflection of Light ) कहते है। 

जो प्रकाश की किरणे सतह पर टकराती है। उसे आपतित किरण कहते है। और जो प्रकाश की किरणे वापस लौट आती है। उनको परावर्तित किरण कहते है। 


जब किरणे पूर्ण रूप से परावर्तित हो जाती है। तो इसे प्रकाश का पूर्ण परावर्तन कहते है। जब प्रकाश की किरणे आंशिक रूप से परावर्तित होती है। तो इसे प्रकाश का आंशिक परावर्तन कहते है।

आपतन कोण

प्रकाश की किरणे की सतह और आपतित किरण के बीच को बने कोण को आपतन कोण कहते है। 

परावर्तन कोण

सतह तथा परावर्तित कोण के बीच बने कोण को परावर्तन कोण कहते है।

प्रकाश के परावर्तन के नियम 

नियम के अनुसार -  
  1. प्रकाश के परावर्तन में आपतन कोण (i) और परावर्तन कोण (r) का मान सदैव समान रहता है।  (i = r)
  2. आपतित किरण, परावर्तित किरण, अभिलम्ब सभी एक ही तल में होते है।

प्रकाश के परावर्तन के प्रकार 

प्रकाश के परावर्तन को दो भागो में बाटा गया है।

1. नियमित परावर्तन (Regular Reflection in Hindi)

जब प्रकाश की किरणे किसी चिकने सतह से टकराती है। तो परिवर्तित किरणे एक दुसरे के समान्तर होती है। नियमित परावर्तन में आपतन कोण परावर्तन कोण के बराबर होता है।

2. अनियमित परावर्तन (Diffuse Reflection in Hindi)

जब प्रकाश की किरणे किसी किसी वास्तु से टकराती है। तथा सतह खुरदुरी होती है। तो परावर्तित किरणे एक दुसरे से छितरा जाती है। जिससे वो समान्तर नहीं होती है। इसी परावर्तन को इसी परावर्तन को अनियमित परावर्तन कहते है।

Post a Comment

0 Comments